Header Ads

"जुड़िये जुड़िये - पढ़ पढ़ - लिख लिख"



अगर आप स्वयं किसी भी विधा में, हिंदी में मौलिक रूप से कुछ भी लिखते हैं तो आपका स्वागत है 'सुरभित तुम-सुरभि हम' हिन्दी पोर्टल में....कविता, गद्य, पद्य, सकारात्मक सुविचार और शेरो शायरी से जुड़ा ये ब्लॉग न केवल हिंदी भाषा के विकास के लिए है बल्कि आम जनता को प्रेरित करने के हेतु भी है ....


"जुड़िये जुड़िये - पढ़ पढ़ - लिख लिख"


#सुरभि सक्सेना

🙏मित्रो नमस्कार,

हिंदी भाषा के विशाल सागर में 'सुरभित तुम-सुरभि हम' एक प्रयास है  : साहित्य के विकास के लिए उपलब्ध कराया जा रहा एक अनूठा मंच है।
सहयोग की भावना के साथ साहित्य के इस ऑनलाइन मंच में सभी नवोदित व स्थापित लेखकों का ह्रदय से स्वागत है।

यदि आप कहानी,लघुकथा,लेख, उपन्यास, नाटक, संस्मरण,डायरी आलोचना, निबन्ध,व्यंग्य,कविता, आत्मकथा, समालोचना,मुक्तक,ग़ज़ल,नज़्म,गीत या अन्य किसी भी विधा में लेखन कार्य करते हैं तो अपनी 'मातृभाषा' यानि हिंदी में अपनी रचनाओं के संकलन हेतु आपका हार्दिक स्वागत है।

हिन्दी साहित्य का प्रचार-प्रसार और एक स्थान पर सभी महत्वपूर्ण विषयों पर सामग्री संकलन ही हमारा मूल उद्देश्य है, जो आपके सम्पूर्ण लेखकीय कार्य को संजोकर हमेशा के लिए सुरक्षित कर सकता है।

इस उद्देश्य की दिशा में आपकी रचनाएँ और आलेख आदि अपेक्षित हैं। आप रचनाएँ मेल कर सकते हैं या व्हाटसअप पर भी भेज सकते हैं।

धन्यवाद..
✍सुरभि सक्सेना

'सुरभित तुम-सुरभि हम'

*रेडियो जॉकी - FM GOLD* 106.4  नई दिल्ली स्टेशन

+91-9711208550

-----------------------
अलग-अलग विषय पर लिखी हुई स्वरचित  रचनाएँ भेजकर हिन्दी भाषा कॊ बढ़ाने एवं सहेजने के इस आंदोलन में सहभागी अवश्य बनिए..इस मंच से जुड़कर आपको एक नयी राह व दिशा ज़रूर मिलेगी..पुनः विनम्र अनुरोध कि,एक बार पोर्टल जरूर देखिए-

https://surabhiisaxena77.blogspot.in/

स्वागत है आपका हमारे हिन्दी भाषी पोर्टल 'सुरभित तुम-सुरभि हम' में..आपकी रचनाएँ भेजिए साथ ही किसी पुस्तक विमोचन की तस्वीरें कवी सम्मलेन की तस्वीरे भी शेयर कर सकते हैं







No comments

RJ Surabhii Saxena. Powered by Blogger.